Saturday, July 20, 2024

सीमेंट कंपनियां बंद होने पर सीटू लाल, शिमला में किया धरना प्रदर्शन

  • सीमेंट कंपनियां बंद होने पर सीटू लाल, शिमला में किया धरना प्रदर्शन
  • सरकार से इन कारखानों को जल्द शुरू करवाने की उठाई मांग

आपकी ख़बर, शिमला।

प्रदेश में सीमेंट कारखानों पर ताला लटकने से माहौल काफी गरमा चुका है। इसी कड़ी में सीटू की राज्य कमेटी, हिमाचल प्रदेश ने अडानी समूह द्वारा बरमाणा एसीसी और दाड़लाघाट अम्बुजा सीमेंट प्लांटों को अचानक बन्द करने के खिलाफ डीसी ऑफिस शिमला के बाहर धरना प्रदर्शन किया। सीटू ने इन प्लांटों को बन्द करने की कड़ी निंदा की है और सरकार से संबंधित कंपनी के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की मांग उठाई है।

सीटू ने मांग की है कि इन उद्योगों को तुरन्त शुरू करवाया जाए तथा 50 हज़ार से ज़्यादा मजदूरों,ड्राइवरों,ट्रांसपोर्टरों व अप्रत्यक्ष तौर से कार्य कर रहे लोगों के रोज़गार की सुरक्षा की जाए। प्रदर्शन में विजेंद्र मेहरा, जगत राम, बालक राम, विनोद बिरसांता, दलीप सिंह, राकेश कुमार, राम प्रकाश, रंजीव कुठियाला, किशोरी ढटवालिया, पूर्ण चंद, कपिल नेगी, मनोहर लाल, विद्यादत्त, बलवंत मेहता, नरेश कुमार, अंजू, सुकर्मा, किरन, अंजू, अमृता, प्रीति, सरीना, सीता राम आदि मौजूद रहे। सीटू के प्रदेशाध्यक्ष विजेंद्र मेहरा व महासचिव प्रेम गौतम ने आरोप लगाया कि अडानी कम्पनी हिमाचल प्रदेश में तानाशाही पर उतारू है जिसका ताज़ा उदाहरण एसीसी बरमाणा व अम्बुजा दाड़लाघाट सीमेंट प्लांटों को गैरकानूनी तरीके से बन्द करना है। इससे प्रदेश के लगभग दो लाख लोगों के जीवन पर प्रभाव पड़ना तय है।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि यह केंद्र सरकार द्वारा लागू की जा रही नीतियों का परिणाम है जिसके कारण अडानी कम्पनी इस तरह के कदम बेखौफ उठा रही है। इन कारखानों को अचानक बन्द करने से इनमें काम कर रहे हज़ारों कर्मचारियों और मजदूरों की नौकरी पर संकट पैदा हो गया है। उन्होंने राज्य और केंद्र सरकार से इन कारखानों को जल्दी शुरू करवाने के लिए हस्तक्षेप की मांग की है।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

spot_img

Latest Posts