Thursday, April 18, 2024

हिमाचल की चार पंचायत प्रधान और जल शक्ति विभाग की दो महिला कर्मियों को मिला स्वच्छ सुजल शक्ति सम्मान

आपकी ख़बर, शिमला।
हिमाचल की चार ग्राम पंचायत महिला प्रधान तथा दो जल शक्ति विभाग की ब्लॉक रिसोर्स कोऑर्डिनेटर महिला कर्मचारियों को नई दिल्ली में सम्मानित किया गया है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस सप्ताह के दौरान आयोजित नई दिल्ली में जल शक्ति मंत्रालय द्वारा स्वच्छ सुजल शक्ति सम्मान 2023 के तहत यह पुरस्कार दिया गया है। जल शक्ति विभाग द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों में पानी की बचत, पानी के संरक्षण तथा पानी बचाने के लिए लोगों को जागरूक करने के लिए कैच द रैन अभियान के तहत यह पुरस्कार दिया है। जिसमें जिला सिरमौर के पच्छाद उपमंडल की बाग पशोग पंचायत की प्रधान राजेश्वरी शर्मा, पांवटा साहिब विकास खंड के धौलाकुआं ग्राम पंचायत की प्रधान एवं वन विकास समिति नौरंगाबाद की अध्यक्ष धर्मो देवी, जिला सोलन की ग्राम पंचायत बसाल की प्रधान रिचा ठाकुर, जिला ऊना के विकास खंड हरोली की ग्राम पंचायत धर्मपुर की प्रधान सुभद्रा देवी को राष्ट्रपति द्वारा पुरस्कार से नवाजा गया। इसी के साथ हिमाचल प्रदेश जल शक्ति विभाग के ब्लॉक रिसोर्स कोऑर्डिनेटर जल शक्ति विभाग के कर्मचारी नाहन डिवीजन की जाहिदा खान तथा हरौली डिवीजन पूनम सैनी को भी पुरस्कार से नवाजा गया। जिला सिरमौर के वन मण्डल पांवटा साहिब व टाटा ट्रस्ट की हिम्मोत्थान सोसायटी के माध्यम से पांवटा साहिब के धौलाकुआं-नौरंगाबाद वन क्षेत्र में किए गए जल सरंक्षण के कार्यों के लिए वन विकास समिति नौरंगाबाद को जल शक्ति अभियान के तहत स्वच्छ सुजल शक्ति सम्मान से सम्मानित किया गया। समिति की अध्यक्षा धर्मो देवी ने नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में राष्ट्रपति से सम्मान ग्रहण किया। बता दें कि टाटा ट्रस्ट द्वारा कारपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के अधीन पांवटा वन मंडल के नौरंगाबाद वन क्षेत्र में जल सरंक्षण के कार्य प्रायोजित किए गए थे। इन कार्यों को वनमण्डल पांवटा साहिब के स्टाफ व हिम्मोत्थान सोसायटी की देखरेख में क्षेत्र में इस कार्य के लिए बनाई गई। वन विकास समिति के माध्यम से किया गया। कार्य-योजना के अधीन 975 कंटूर ट्रेंच, 209 रिचार्ज पौंड, 23 चेक डैम, 15 हेक्टेयर क्षेत्र में घास रोपण व पौधारोपण के कार्य किए गए। इन कार्यों से न केवल अनुमानत: अठारह (18) करोड़ लीटर जल का संग्रहण वन क्षेत्र में हुआ अपितु लगभग 4000 कार्ये-दिवस का रोजगार भी स्थानीय ग्रामीणों को प्राप्त हुआ। सम्मान प्राप्ति के बाद वन विकास समिति ने स्थानीय वन रेंजर हर्षमोहन, वनखंड अधिकारी सचिन, वनरक्षक चमन, चांदनी व हिम्मोत्थान सोसायटी के पदाधिकारी वीरेंद्र वर्मा (टीम लीडर), नितिन राणा (तकनीकी विशेषज्ञ), सीमा अत्री (सामाजिक संगठनकर्ता) एवं विनोद कोठारी (को-ऑर्डिनेटर) को धन्यवाद दिया। वन विभाग व हिम्मोत्थान सोसायटी द्वारा पांवटा के अन्य क्षेत्रों में भी जल सरंक्षण के कार्य प्रस्तावित हैं। जिनमे गिरीनगर के परदुनी व चांदपुर क्षेत्र में कार्य प्रगति पर हैं।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

spot_img

Latest Posts