Tuesday, May 28, 2024

हिमाचल विधानसभा चुनाव : 7881 मतदान केंद्र स्थापित, सबसे अधिक 1625 मतदान केंद्र कांगड़ा जिला में

  • हिमाचल विधानसभा चुनाव : 7881 मतदान केंद्र स्थापित, सबसे अधिक 1625 मतदान केंद्र कांगड़ा जिला में

आपकी खबर, शिमला।

हिमाचल प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए निर्वाचन विभाग द्वारा कुल 7881 मतदान केन्द्र स्थापित किए गए हैं। इन मतदान केन्द्रों में 7235 ग्रामीण क्षेत्रों में हैं जबकि 646 शहरी मतदान केन्द्रों की संख्या 646 हैं। निर्वाचन विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि सबसे अधिक 1625 मतदान केन्द्र कांगड़ा जिला में हैं जबकि सबसे कम 92 लाहौल-स्पीति जिला में हैं।

राज्य में तीन सहायक मतदान केन्द्र बनाए गए हैं जिनमें धर्मशाला का 66(क) सिद्धबाड़ी, बैजनाथ का 99(क) बड़ाभंगाल तथा कसौली का 99(क)ढिल्लों शामिल हैं। कांगड़ा जिला के धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत सिद्धबाड़ी मतदान केन्द्र में सर्वाधिक 1511 मतदाता हैं जबकि किन्नौर जिला के 6-का मतदान केन्द्र में न्यूनतम 16 मतदाता हैं। राज्य में ऐसे दूरस्थ मतदान केन्द्र भी हैं जहां पहुॅचने के लिए पांच से अधिकतम 14 किलोमीटर का सफर पैदल करना पड़ता है।

चम्बा जिला में 4-डलहौजी विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत 89-मनोला(1) मतदान केन्द्र में सबसे अधिक 1459 मतदाता हैं जबकि भरमौर विधानसभा क्षेत्र के 144-क्यूनर में मात्र 84 मतदाता हैं। जनजातीय विधानसभा क्षेत्र भरमौर का 26-चस्क भटोरी एक ऐसा मतदान केन्द्र है जहां पोलिंग पार्टी को पहुंचने के लिए 14 किलोमीटर का सफर पैदल तय करना पड़ता है। प्रदेश के सबसे अधिक 15 विधानसभा क्षेत्रों वाले कांगड़ा जिला में धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत सबसे अधिक 1511 मतदाता 66-सिद्धबाड़ी में हैं जबकि सबसे कम मतदाता वाला केन्द्र नूरपूर विधानसभा क्षेत्र का 19-कलांगण है, जहां मात्र 75 मतदाता हैं।

सबसे दूरस्थ मतदान केन्द्र शाहपुर विधानसभा का 23-मांच है जहां पोलिंग पार्टी को 7 किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ता है। जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति के अन्तर्गत 76-काजा में 811 जबकि 33-लिंगर मतदान केन्द्र में मात्र 38 मतदाता हैं। कुल्लू जिला के 22-मनाली विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत सबसे अधिक मतदाता वाला 12-चिचोंगा मतदान केन्द्र हैं जहां 1305 मतदाता हैं जबकि इसी जिला के बंजार विधानसभा क्षेत्र के 71-तिलगा में सबसे कम 89 मतदाता हैं।

कुल्लू का 129-रसोल और बंजार का 58-शाकटी दूरस्थ मतदान केन्द्र हैं जहां पोलिंग पार्टियों को 10 किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ता है। विधानसभा क्षेत्रों की संख्या की दृष्टि से हिमाचल प्रदेश का दूसरा बड़ा जिला मण्डी है जिसमें 10 विधानसभा क्षेत्र आते हैं। जिला के सुन्दरनगर विधानसभा क्षेत्र के 25-चौगान में सबसे अधिक 1403 जबकि सबसे कम 75-जारठू मतदान केन्द्र पर मात्र 95 मतदाता हैं।

इसी विधानसभा क्षेत्र का 93-मंझागण दूरस्थ मतदान केन्द्र है जहां पहुंचने के लिए पोलिंग पार्टी को 10 किलोमीटर की दूरी पैदल तय करनी पड़ती है। हमीरपुर जिला के अन्तर्गत हमीरपुर विधानसभा क्षेत्र के 52-स्वाहल मतदान केन्द्र पर सबसे अधिक 1283 जबकि बड़सर विधानसभा क्षेत्र के 59-बल्ह ढटवालियां मतदान केन्द्र पर सबसे कम 105 मतदाता हैं।

जिला ऊना के ऊना विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत 20-ऊना (14) मतदान केन्द्र पर सबसे अधिक 1404 मतदाता हैं जबकि सबसे कम चिन्तपूर्णी विधानभा क्षेत्र के 58-सूरी (2) में औसतन 246 मतदाता हैं। बिलासपुर जिला के श्रीनैणादेवी जी विधानसभा क्षेत्र के 65-बैहल (3) में सबसे अधिक 1281 मतदाता हैं जबकि बिलासपुर विधानसभा क्षेत्र का 27-धाड़त केन्द्र अपेक्षाकृत सबसे कम 835 मतदाता वाला केन्द्र है।

सोलन जिला का दून विधानसभा क्षेत्र जिसके अन्तर्गत 79-बद्दी मतदान केन्द्र में 1385 तथा कसौली विधानसभा क्षेत्र के 28-गलयाणा में सबसे कम 105 मतदाता हैं। सिरमौर जिला के पांवटा साहिब विधानसभा क्षेत्र के 48-पांवटा (देवीनगर-5) में सबसे अधिक 1423 जबकि इसी विधानसभा क्षेत्र के 87-नागली मतदान केन्द्र में सबसे कम 112 मतदाता हैं।

यहां के शिलाई विधानसभा क्षेत्र के 36-बोबड़ी मतदान केन्द्र तक पोलिंग पार्टी को पहुंचने के लिए पांच किलोमीटर का पैदल मार्ग तय करना पड़ता है। आठ विधानसभा क्षेत्रों वाला शिमला जिला के चौपाल विधानसभा क्षेत्र में 114-चरोली मतदान केन्द्र में सबसे अधिक 1298 मतदाता हैं जबकि शिमला (शहरी) विधानसभा क्षेत्र के 2-समरहिल मतदान केन्द्र में केवल 33 मतदाता हैं।

जिला के रोहड़ू विधानसभा क्षेत्र के 123-पंडार मतदान केन्द्र पर पहुॅंचने के लिए पोलिंग पार्टी को 7 किलोमीटर का सफर पैदल तय करना पड़ता है।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

spot_img

Latest Posts